नागरिक सेवा (रायपुर) मुखपृष्ठ|About | Contact | हिंदी मैं लिखिये  | Preview Chanel

 
Nov 2017
SuMoTuWeThFrSa
      1 2 3 4
5 6 7 8 9 10 11
12 13 14 15 16 17 18
19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30    
 
   
 


 
   
Preview Chanel
ताजा खबरें
Last Updated: Thu, 23 Nov 2017 16:54:37 -0600

Tue, 09 Aug 2011 16:24:00 +0000

जानकी की हिम्मत से पोलियो भी हुआ पराजित



किसी भी प्रकार की शारीरिक और मानसिक नि:शक्तता व्यक्ति की योग्यता को एक सीमित दायरे में बांध देता है पर जब ऐसा व्यक्ति परिस्थितियों को चुनौती देते हुए आगे बढ़ जाता है, तब वह समाज के लिए प्रेरणा बन जाता है।
36गढ़ डाट इन
रायपुर,9 अगस्त(36गढ़ डाट इन) किसी भी प्रकार की शारीरिक और मानसिक नि:शक्तता व्यक्ति की योग्यता को एक सीमित दायरे में बांध देता है पर जब ऐसा व्यक्ति परिस्थितियों को चुनौती देते हुए आगे बढ़ जाता है, तब वह समाज के लिए प्रेरणा बन जाता है।

छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले के विकासखण्ड छुरिया की रहने वाली पोलियो ग्रस्त 28 वर्षीय कुमारी जानकी कंवर
ने भी जीवन की चुनौतियों को स्वीकार करते हुए आज एक सम्मानजनक मुकाम हासिल कर लिया है।

कुमारी जानकी ने अपनी काबिलियत को साबित करने और परिवार को आर्थिक संबल प्रदान करने के उद्देश्य से किराना दुकान खोलने के लिए छत्तीसगढ़ नि:शक्तजन वित्त और विकास निगम से 50 हजार रूपए का ऋण् लिया।

इस ऋण राशि से जानकी ने किराना दुकान प्रारंभ की और अब वह इसका संचालन सफलतापूर्वक कर रही है। इस दुकान से उसे प्रतिदिन लगभग 400 से 500 रूपए की आमदनी होती है।

कुमारी जानकी अपने परिवार में तीन बहनों में सबसे बड़ी है और पोलियों की वजह से चल नहीं पाती। उस पर विडम्बना
यह कि परिवार की आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण वह पांचवी कक्षा के बाद आगे की पढ़ाई भी नहीं कर सकी।

पढ़ाई जारी नहीं रख पाने का उसे आज भी मलाल है। उसके माता-पिता भी परिवार की कमजोर आर्थिक स्थिति और
अपनी तीनों बेटियों के भविष्य को लेकर हमेशा चिंतित रहते थे।

परिवार में सबसे बड़ी संतान होने के कारण जानकी को भी यह बात सताने लगी कि किस तरह वह परिवार को चलाने
में आर्थिक मदद करे।

साथ ही वह अपनी दोनों छोटी बहनों के विवाह के लिए भी अपने माता-पिता की सहायता करना चाहती थी।
आत्मनिर्भरता के लिए संघर्षरत जानकी को वर्ष 2009 में जब राज्य सरकार के समाज कल्याण विभाग के अंतर्गत छत्तीसगढ़ नि:शक्तजन वित्त और विकास निगम द्वारा संचालित ऋण योजनाओं के बारे में जानकारी मिली, तब उसने किराना दुकान के लिए निगम से 50 हजार रूपए का ऋण लिया था।

इन रूपयों और माता-पिता के सहयोग से उसने किराना दुकान शुरू किया और अब उसकी दुकान अच्छी तरह चलने
लगी है।

36गढ़ डाट इन







 

अन्य खबरें
»  पुलिया बनने से स्कूली बच्चों की राह हुई आसान
»  संजीवनी एक्सप्रेस ने बचायी हजारों लोगों की जिंदगी
»  महाराष्ट्र में जैविक खेती का अध्ययन कर रहे हैं...
»  दीपावली पूर्व मजदूरी भुगतान सुनिष्चित करने के...
»  आपदा जोखिम न्यूनीकरण के लिए आपदा का पूर्व आकलन ...
»  यौन कर्मियों के पुनर्वास के लिए हेल्प लाईन, ऑन...
»  नक्सल हमले में शहीद जवानों के प्रति राज्यपाल ने...
»  जिला स्तरीय जनसमस्या निवारण शिविर 11 अक्टूबर को ...
»  नक्सल बारूदी विस्फोट: मुख्यमंत्री ने की तीव्र...
»  बच्चों के विकास मे आईसीडीएस का महत्वपूर्ण...
»  मुख्यमंत्री ने गांधी जी और शास्त्री जी की जयंती...
»  नक्सल प्रभावित जिलों में महिला साक्षरता को बढ़ाने...

ALSO IN THE NEWS


छतीशगढ सरकार की प्राथमिकता क्या होनी चाहिये ?
बीदेशी पूंजी आकर्षित करना
कृषि
बेकारी समस्या दूर करना
राज्य के पर्यटन खेत्रों के बीकास
ब्यापक रूप से सड़क निर्माण

 

An odisha.com initiative copyright 2007-2008 36garh.in  email: 36garh@gmail.com